Ik Mulakat Song Lyrics| Altamash Faridi & Palak Muchhal


Ik Mulakat Song Lyrics 



Ik Mulakat song





Song Credits :-
Movie - Dream Girl
Singer - Meet Bros, Altamash Faridi & Palak Muchhal
Lyrics - Shabbir Ahmed
Music - Meet Bros 

Music Label: Zee Music Company




Ik Mulakat Song Lyrics


Mai Bhi Hu Tu Bhi Hai Aamne Samne
Dil Ko Behka Diya Ishq Ke Jam Ne
Main Bhi Hu Tu Bhi Hai Aamne Samne
Dil Ko Behka Diya Ishq Ke Jam Ne
Musal-Sal Nazar Barasti Rahi
Taraste Hain Hum Bheege Barsat Mein

Ik Mulaqaat
Ek Mulaqat Mein Batt Hi Baat Mein
Unka Yun Mushkurana Ghazab Ho Gaya
Kal Talak Wo Jo Mere Khayalon Mein The
Rubar Unka Aana Ghazab Ho Gaya

Mohabbat Ki Pehli Mulaqaat Ka
Asar Dekho Na Jaane Kab Ho Gaya
Ik Mulaqaat Mein Baat Hi Baat Mein
Unka Yun Mushkurana Ghazab Ho Gaya

Makhtabah Daidatah Kuchh Khayal Nahi Hai
Ek Taraf Main Kahin, Ek Taraf Dil Kahin

Aankho Ka Aitbaar Mat Karna
Ye Uthe Toh Katleaam Karti Hain
Koyi Inki Nigahon Pe Pehra Lagao Yaron
Ye Nigaho Se Hi Khanzar Ka Kaam Karti Hai

Makhtabah Daidatah Kuchh Khayal Nahi Hai
Ek Taraf Main Kahin, Ek Taraf Dil Kahin
Ehsas Ki Zameen Pe Kyu Dhuya Uth Raha Hai
Jal Raha Dil Mera Kyun Pata Kuchh Nahi

Kyun Khayalon Mein Kuchh Barf Si Gir Rahi
Rait Ki Khawahishon Mein Nami Bhar Rahi
Musal-Sal Nazar Barasti Rahi
Taraste Hain Hum Bheege Barsaat Mein

Ik Mulaqaat
Ik Mulaqaat Mein Baat Hi Baat Mein
Unka Yun Mushkurana Ghazab Ho Gaya
Kal Talak Wo Jo Mere Khayalon Mein The
Rubaroo Unka Aana Ghazab Ho Gaya

Mohabbat Ki Pehli Mulaqat Ka
Asar Dekho Na Jaane Kab Ho Gaya
Ik Mulaqaat Mein Batt Hi Baat Mein
Unka Yun Mushkurana Ghazab Ho Gaya



In Hindi





मैं भी हूँ तू भी है आमने सामने
दिल को बहका दिया इश्क़ के जाम ने
मैं भी हूँ तू भी है आमने सामने
दिल को बहका दिया इश्क़ के जाम ने
मुसलसल नज़र बरसती रही
तरसते हैं हम भीगे बरसात में
एक मुलाक़ात
एक मुलाक़ात में, बात ही बात में
उनका यूँ मुस्कुराना गज़ब हो गया
कल तलक वो जो मेरे ख्यालों में थे
रुबरु उनका आना गज़ब हो गया
मोहब्बत की पहली मुलाक़ात का
असर देखो न जाने कब हो गया
एक मुलाक़ात में, बात ही बात में
उनका यूँ मुस्कुराना गज़ब हो गया
मख्तावर दर्द का कुछ ख्याल नहीं है
एक तरफ मैं कहीं, एक तरफ़ दिल कहीं
आँखों का ऐतबार मत करना
ये उठे तो कत्लेआम करती है
कोई इनकी निगाहों पे पहरा लगाओ यारों
ये निगाहों से ही खंज़र का काम करती है
मख्तावर दर्द का कुछ ख्याल नहीं है
एक तरफ मैं कहीं, एक तरफ़ दिल कहीं
एहसास की ज़मीन पे, क्यूँ धुआं उठ रहा
है जल रहा दिल मेरा, क्यूँ पता कुछ नहीं
क्यूँ ख्यालों में कुछ बर्फ सी गिर रही
रेत की ख्वाहिशों में नमी भर रही
मुसलसल नज़र बरसती रही
तरसते हैं हम भीगे बरसात में
एक मुलाक़ात
एक मुलाक़ात में, बात ही बात में
उनका यूँ मुस्कुराना गज़ब हो गया
कल तलक वो जो मेरे ख्यालों में थे
रुबरु उनका आना गज़ब हो गया
मोहब्बत की पहली मुलाक़ात का
असर देखो न जाने कब हो गया
इक मुलाक़ात में, बात ही बात में
उनका यूँ मुस्कुराना गज़ब हो गया
ओ…













SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment